‘तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा’!

इस टाइटल से ही आप समझ गए होंगे कि दास्तान-ए-नायक ‘सुभाष चंद्र बोस’ के बारे में हम बात करने वाले हैं। इतिहास के पन्नों को जब आप पलटते हैं तब आपको एहसास होता है कि हमारी खुशियों के लिए, हमारी आजादी के लिए और हमारे भविष्य के लिए कितने महापुरुषों ने अपने प्राण न्योछावर कर […]

एन.टी. रामाराव: दक्षिण भारत की राजनीति का ‘शक्तिशाली’ नाम

दक्षिण भारत में फिल्म अभिनेताओं का राजनीति में सफल होना नई बात नहीं रही है। खुद एन. टी. रामाराव ना केवल एक अभिनेता, निर्देशक और फिल्म निर्माता थे, बल्कि राजनीति में भी उन्होंने अपनी धाक बखूबी साबित किया है। आप आंध्र प्रदेश जैसे बड़े स्टेट के तीन बार मुख्यमंत्री रहे हैं और अपनी छाप दक्षिण […]

राम मनोहर लोहिया: समाजवाद के जनक

बड़े लोग रहे ना रहें, किंतु उनके विचार हमेशा जनमानस के बीच तैरते रहते हैं और ऐसे ही बड़े लोगों में एक नाम राम मनोहर लोहिया का है। तब आजादी के बाद कांग्रेस देश पर एकछत्र राज कर रही थी और एक सशक्त विपक्ष की कमी देश में थी। तब राम मनोहर लोहिया जैसे लोगों […]

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी: जिसने की धारा 370 खत्म करने की सबसे पहले मांग

पिछले दिनों कश्मीर में जब भारत सरकार ने धारा 370 के समाप्त होने की घोषणा की तब बड़ा हो हल्ला मचा था। भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान ने हर जगह हाय तौबा मचाई और इस धारा के खत्म होने पर अपना विरोध जाहिर किया। पर क्या आपको पता है कि धारा 370 खत्म करने की […]

जयप्रकाश नारायण: आपातकाल के ‘लोकनायक’

स्वतंत्र भारत में यह सबसे बड़ा लोकतांत्रिक संकट था, जब भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगा दिया। इस आपातकाल के दौरान तमाम विपक्षी नेताओं का समूह जेल में ठूंस दिया गया और हर तरह के प्रतिबंध नागरिक अधिकारों पर थोप दिए गए। ऐसी स्थिति में निरंकुश सत्ता के खिलाफ खड़ा होने वाला […]

मायावती: दलितों की महान नेत्री

पिछले कई दशकों से भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की राजनीति के केंद्र में मायावती रही हैं। उनके समकालीन राजनीति करने वाले लोग अब रिटायर हो रहे हैं, किंतु वह मजबूती से जमी हुई हैं। 2014 के आम चुनाव में जब उनकी पार्टी ‘बहुजन समाज पार्टी’ को एक भी सीट नहीं मिली, तब […]

लालू प्रसाद यादव: गरीबों का मसीहा या घोटालेबाज, या मसखरा?

लालू प्रसाद की सार्वजनिक जीवन में यही दो- तीन छवियां रही हैं। उन्हें या तो चाहने वाले लोग हैं या नफरत करने वाले या उनका मजाक उड़ाने वाले, पर राजनीति में उनकी तूती दशकों तक बोलती रही है। उनके बारे में कहा जाता रहा है कि जब तक रहेगा समोसे में आलू, तब तक रहेगा […]

किसानों के बड़े नेता ‘चौधरी चरण सिंह’

आजादी के बाद ऐसे कई सारे नेता हुए, जिन्होंने भारत-निर्माण में अपना योगदान दिया। चूंकि भारत की अर्थव्यवस्था शुरू से ही कृषि प्रधान रही है, इसलिए राजनीतिक परिदृश्य में किसान यहां हमेशा ही केंद्र में रहे हैं। दुर्भाग्य यह है कि किसानों के केंद्र में होने के बावजूद बहुत कम ऐसे राजनेता हुए हैं, जिन्होंने […]

जॉर्ज फर्नांडिस: संघर्षों की राह से निकला ‘नायक’

जॉर्ज फर्नांडिस को अधिकतर लोग भारत के रक्षा मंत्री के रूप में ही जानते हैं, जो तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के प्रिय कैबिनेट मंत्री भी थे। पर रक्षा मंत्री के अलावा जॉर्ज फर्नांडिस की शख्सियत कहीं ज्यादा विराट थी। वह शख्सियत कोई पैराशूट से उतारी गई शख्सियत नहीं थी, बल्कि जमीन पर किए गए […]

बेंजामिन फ्रैंकलीन: फादर आफ यूनाइटेड स्टेट्स

“फादर ऑफ यूनाइटेड स्टेट्स”… यह कोई साधारण उपाधि नहीं है! पर आप यह जान लें कि इस उपाधि को धारण करने वाले बेंजामिन फ्रैंकलीन भी कोई साधारण व्यक्ति नहीं रहे हैं, बल्कि उन्होंने अपने जीवन में ऐसे कई असाधारण कार्य किए हैं, जिनकी जितनी भी चर्चा की जाए कम होगी। कुछेक बातों की चर्चा करें […]